अंतर संसदीय संघ का 206वां सत्र वर्चुअल होगा

  • Devendra
  • 30/10/2020
  • Comments Off on अंतर संसदीय संघ का 206वां सत्र वर्चुअल होगा

नई दिल्ली। (वार्ता) कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण पहली बार अंतर संसदीय संघ (आईपीयू) की शासी परिषद के 206वें सत्र का आयोजन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित किया जाएगा जिसमें संघ के नये मुखिया का चुनाव भी किया जाएगा। यह पांच दिवसीय सत्र 01 से 4 नवम्बर 2020 तक होगा।

लोकसभा सचिवालय के अनुसार यह सत्र कोविड-19 महामारी के कारण असाधारण परिस्थितियों में आईपीयू की व्यक्तिगत रूप से उपस्थित सांविधिक सभा के स्थान पर वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर आयोजित किया जा रहा है। वर्चुअल सत्र की कार्यसूची में अन्य बातों के साथ-साथ रिमोट इलेक्ट्रानिक गुप्त मतदान के माध्यम से आईपीयू के नए प्रेसिडेंट का चुनाव भी शामिल है, क्योंकि आईपीयू के निवर्तमान प्रेसिडेंट महामहिम सुश्री गैब्रिएला क्यूवास बैरोन(संसद सदस्य, मैक्सिको) का कार्यकाल 19 अक्तूबर,2020 को पूरा हो गया था। आईपीयू के नए अध्यक्ष का कार्यकाल 2020-23 होगा।

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के नेतृत्व में एक भारतीय संसदीय शिष्ट मण्डल उपरोक्त वर्चुअल सत्र में भाग लेगा और अपना मत देगा। इस प्रतिनिधि मण्डल में लोकसभा सदस्य श्रीमती पूनमबेन हेमतभाई मदाम और राज्यसभा सदस्य स्वप्न दासगुप्त शामिल होंगे। लोकसभा की महासचिव स्नेहलता श्रीवास्तव और राज्यसभा के महासचिव देश दीपक वर्मा भी वर्चुअल सत्र में भाग लेंगे। लोकसभा सचिवालय के संयुक्त सचिव डॉ अजय कुमार, भारतीय शिष्टमण्डल के सचिव हैं। आईपीयू अध्यक्ष के चुनाव में चार उम्मीदवार हैं –पुर्तगाल से श्री दुआरते पचेको, पाकिस्तान से श्री मोहम्मद संजरानी, उज्बेकिस्तान से श्री अकमल सैदोव और कनाडा से सुश्री सलमा अताउल्लाहजान।

शासी परिषद के निर्धारित वर्चुअल सत्र से पहले,एपीजी के वर्तमान अध्यक्ष, फिलीपीन्स की सीनेट के अध्यक्ष द्वारा आईपीयू के एशिया प्रशांत भूराजनैतिक समूह (एपीजी), जिसमें 36 राष्ट्र हैं, की वर्चुअल बैठक आज आयोजित की गई थी। इस बैठक में श्री स्वप्न दासगुप्त और लोकसभा महासचिव ने भाग लिया। शासी परिषद आईपीयू का मुख्य नीति निर्माण निकाय है, जिसे अन्य बातों के साथ-साथ आईपीयू के नए अध्यक्ष को चुनने का अधिकार है। आईपीयू की प्रत्येक सदस्य संसद के तीन संसद सदस्य शासी परिषद में प्रतिनिधित्व करते हैं और तदनुसार उनके तीन मत होते हैं, बशर्ते शिष्ट मण्डल में पुरुष और महिला दोनों हों।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar