रामकाज में बिजयनगर ने भी निभाई भागीदारी

  • Devendra
  • 06/08/2020
  • Comments Off on रामकाज में बिजयनगर ने भी निभाई भागीदारी

बिजयनगर ।(खारीतट सन्देश) पांच सदी के इंतजार के बाद जिस राम मन्दिर का भूमि पूजन बुधवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया उसके लिए वर्षों तक चले राम मन्दिर आन्दोलन में बिजयनगर सहित आस-पास के लोगों ने भी भागीदारी निभाई थी। उस समय बिजयनगर सहित आस-पास के करीब 50 से अधिक कार सेवकों ने बस के जरिए अयोध्या के लिए प्रस्थान किया था। लेकिन कारसेवकों को दिल्ली यूपी सीमा पर यूपी पुलिस ने अपनी हिरासत में ले लिया। इसके बाद यूपी पुलिस बिजयनगर के गिरफ्तार कारसेवकों को सारहनपुर ले गई और वहां अस्थायी तौर पर गुरु नानक इन्टरनेशनल कॉलेज में बनाई गई जेल में बंद कर दिया। जहाँ कार सेवकों को करीब सप्ताह भर रहना पड़ा।

उस समय मुलायम सिंह की सरकार ने अयोध्या के राम मंदिर तक पहुंच चुके कारसेवकों पर गोलियां चलवाई थी और फायरिंग की इस घटना में अयोध्या में कई कार सेवक शहीद हो गए थे तो कई कारसवेक घायल हो गए थे। इस घटना के विरोध के चलते देश के कई हिस्सों में उपद्रव की स्थिति पैदा हो गई थी। इससे साहरनपुर भी अछूता नहीं रहा। जिस समय बिजयनगर के कार सेवक जेल में पंक्तिबद्ध होकर भोजन कर रहे थे उस समय पुलिस ने जेल में अश्रु गैस के कई गोले उन पर छोड़ दिए। इससे अफरातफरी मच गई थी और माहौल तनावपूर्ण हो गया था। इसके बाद यूपी के समस्त शहरों में कफ्र्यू लग गया था तथा कफ्र्यू के दौरान ही यहां के कारसेवकों को यूपी पुलिस अपनी सुरक्षा में लेकर दिल्ली तक लाई और वहां ले जाकर छोड़ दिया।

यूपी में मुलायमसिंह यादव के शासन काल में बिजयनगर से हम 50 से अधिक कार सेवक कस्बे के शिक्षाविद् एवं भाजपा के कार्यकर्ता रहे सेवानिवृत प्रधानाध्यापक रामेश्वरलाल शर्मा के नेतृत्व में बिजयनगर से बस में सवार होकर अयोध्या के लिए निकले थे। इस दौरान दिल्ली यूपी सीमा पर भाजपा नेता मदनलाल खुराना के नेतृत्व में हमने पैदल अयोध्या के लिए प्रस्थान किया तो सीमा पर हमें यूपी पुलिस के विरोध का सामना झेलना पड़ा। उस समय दिल्ली की भाजपा नेता पूर्णिमा सेठी ने आनन-फानन में महिलाओं का घेरा हमारे चारों ओर बना लिया और पुलिसकर्मियों से तकरार करने के बाद हमें यूपी सीमा में दाखिल करवा दिया। पुलिस ने हमें गाजियाबाद कृषि उपज मंडी ले जाकर हिरासत में ले लिया और सहारनपुर के एक कॉलेज में बनाई गई अस्थाई जेल में ले जाकर बंद कर दिया गया। जहां आसपास के हिन्दू भाईयों ने हमारे भोजन आदि की व्यवस्था की। मेरी इच्छा तो रामकाज में मर मिटने की थी लेकिन भाग्य ने साथ नहीं दिया और मैं अयोध्या जाने से पहले ही यूपी पुलिस की गिरफ्त में पहुंच गया। मंदिर की नींव पडऩे से बेहद खुश हूं।

पवन शर्मा, कार सेवक, बिजयनगर
वर्ष 1990 में अयोध्या कार सेवा में जाने के लिए प्रस्थान किया, लेकिन हमें दिल्ली- यूपी बॉर्डर पर गिरफ्तार करके पैदल गाजियाबाद की कृषि उपज मंडी में ले जाया गया। जहां से हमें यूपी पुलिस ने हिरासत में लेकर बस के जरिए अस्थाई जेल में परिवर्तित सहारनपुर में गुरुनानक इंटरनेशनल कॉलेज में बंद कर दिया गया। जहां हमें करीब सप्ताह भर बंद रखा। इस दौरान अयोध्या में कार सेवा के समय फायरिंग हो गई तो उससे सहारनपुर जेल भी प्रभावित हुई। यहां भी उपद्रव फैल गया। इस दौरान पुलिस ने हमारी जेल के भीतर अश्रु गैस के गोले छोड़े। जिस समय अश्रु गैस हमारे ऊपर छोड़े गए उस समय हम लोग भोजन कर रहे थे। इससे एकाएक यूपी में दंगे फैल गए। इसके बाद पुलिस ने हमें सुरक्षित यूपी दिल्ली बोर्डर पर लाकर छोड़ दिया। इस बात का मलाल जरूर है कि उस समय हम अयोध्या नहीं पहुंच पाए। अब मंदिर निर्माण से मुझे बहुत खुशी है।

राजेश तिवाड़ी, कार सेवक, बिजयनगर
18 अक्टूबर 1990 को बिजयनगर गुलाबपुरा सहित आसपास के क्षेत्र से 53 जनें अयोध्या कार सेवा के लिए बिजयनगर से निकले। दिल्ली यूपी सीमा पर पहुंचते ही यूपी पुलिस ने हम लोगों को गिरफ्तार करते हुए सहारनपुर में बनी अस्थाई जेल में बंद कर दिया। 2 नवम्बर को हमने जेल की भीतर ही सांकेतिक कार सेवा शुरू कर दी। इसकी खबर लगते ही सहारनपुर के हिन्दुवादी लोगों ने जेलों का घेराव कर प्रशासन से जेल में बंद हम लोगों को रिहा करने की मांग की। हालात बिगड़ते देख प्रशासन ने हवा में फायर करवाया, अश्रु गैस के गोले छोड़े गोले हमारी जेल में भी आ गिरे। हालांकि इस उपद्रव में कोई जनहानि नहीं हुई। इसके बाद प्रशासन ने मामले को भांपते हुए हमें सुरक्षित तरीके से पुन: यूपी दिल्ली बॉर्डर पर छोड़ दिया। मंदिर बनने से देशभर में हर्ष का माहौल है। वर्षो बाद जाकर मंदिर निर्माण का मार्ग साफ हुआ है।

नवीन शर्मा, पूर्व जिलाध्यक्ष भाजपा देहात, अजमेर
भारत प्रारम्भ से ही ऋषि और कृषि प्रधान देश रहा है। हिन्दुस्तान हिन्दुत्व की पहचान है। भारत में शांति, समाधि और शकुन की अनुभूति होती है। इसके पीछे धार्मिक आस्थाओं का प्रबल प्रभाव है। हर व्यक्ति अपने-अपने ईष्ट का स्मरण करता है। जहां धर्म है वहां अमन चैन है। राम किसी व्यक्ति विशेष का नाम नहीं है, वरन् राम पूरी दुनिया की आस्था का एक आधार है। आज पूरी दुनिया में उत्सव मनाया जा रहा है। सभी जगह हर्ष का माहौल है।
गुरुवर्या डॉ. श्री ज्ञानलता जी म.सा.
पूरे विश्व में मंदिर भूमि पूजन के अवसर पर उत्सव मनाया जा रहा है। भगवान श्री राम का अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए लोगों ने वर्षो इंतजार किया है। आज सभी का सपना पूरा हुआ है। इस मौके पर सभी एक दूसरे को बधाई देने में व्यस्त रहे।

महंत चेतनदास महाराज महामंडलेश्वर, श्री राम मंदिर, गुलाबपुरा
भगवान श्री राम मंदिर की भूमि पूजन के अवसर पर घर-घर में कीर्तन दीपक व भगवा घ्वज लहरा रहे हैं। देशभर में खुशी का माहौल है। श्री बाड़ी माता मंदिर में अखण्ड कीर्तन का आयोजन रखा गया है। वर्षों बाद जाकर देश सहित विदेश में हिन्दुओं में खुशी का माहौल है।

कृष्णा टांक, ट्रस्टी श्री बाड़ी माता मंदिर, बाड़ी
हम लोगों ने जो सपना देखा था वो पूरा हुआ है। भगवान श्री राम विश्व के अराध्यदेव हैं। उनका मंदिर बनना विश्व के गौरव की बात है। इस अवसर पर हमारी यहीं मंगल कामना है कि जो भी संकट आ रहे हैं वो टले और विश्व का कल्याण हो।

डॉ. राजेश जोशी, मुख्य उपासक, श्री सांई धाम, गुलाबपुरा
भगवान श्री राम के मंदिर निर्माण का भूमि पूजन के अवसर पर देशभर में खासा उत्सव जैसा माहौल है। आखिरकार 500 वर्षों बाद जाकर हम लोगों का यह सपना पूरा हुआ है। आमजन एक-दूसरे को बधाई एवं शुभकामनाएं दे रहे हैं।

निर्मल बाफना, खण्ड संचालक, बिजयनगर
राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन होना सिख समुदाय के लिए बड़े गर्व की बात है। इससे समाज में हर्ष का माहौल है। जहां भूमि पूजन किया गया वहां हमारे गुरुदेव गुरुनानक, गुरु गोविन्दसिंह व गुरु तेगबहादुर कुछ दिनों का प्रवास करके आए हैं। इन्हें वहां रहने पर एक अलग ही अनुभव हुआ था। मंदिर निर्माण में कार सेवा की आवश्यकता होने पर सिख समुदाय तत्पर है।

गुरुभेजसिंह टुटेजा, प्रधान, ट्रस्ट श्री गुरुसिंह सभा, बिजयनगर
हम देश के संविधान और न्यायालय के निर्णय का सम्मान करते हैं। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के शुभारंभ से एक नए युग का सूत्रपात हुआ है, इससे सम्पूर्ण देश में सांप्रदायिक सद्भाव, बंधुत्व, राष्ट्रीय एकता, मानव कल्याण के आदर्श का संचार होगा। देश को कमजोर करने, नफरत फैलाने वाली ताकतों पर लगाम लगेगी। आज का आयोजन देश को नई दिशा देगा। इस कदम से सबके लिए मंगलकारी रामराज्य की परिकल्पना साकार होगी।

अखत्यार अली, बिजयनगर

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar