बॉलीवुड हस्तियों ने अनुच्छेद 370 खत्म करने के फैसले का किया स्वागत

  • Devendra
  • 05/08/2019
  • Comments Off on बॉलीवुड हस्तियों ने अनुच्छेद 370 खत्म करने के फैसले का किया स्वागत

नई दिल्ली। (वार्ता) कंगना राणावत, दिया मिर्जा, विक्रात मैसी समेत कई बॉलीवुड हस्तियों ने अनुच्छेद 370 को खत्म करने के केंद्र सरकार के फैसले की सराहना करते हुए इसे ऐतिहासिक कदम बताया है।

अभिनेत्री कंगना रणावत ने एक बयान में कहा, “अनुच्छेद 370 को खत्म करने का कार्य बहुत लंबे समय से लंबित था, आतंकवाद-मुक्त राष्ट्र की दिशा में यह ऐतिहासिक कदम है। मैं बहुत समय से इस जोर दे रही थी और मैं जानती थी कि अगर कोई इस असंभव कार्य काे कर सकता है तो वह प्रधानमंत्री नरेंद्र माेदी ही हैं। वह केवल दूरदर्शी ही नहीं है बल्कि उनके पास असंभव को संभव बनाने साहस और शक्ति भी है। मैं इस ऐतिहासिक दिवस पर जम्मू-कश्मीर समेत पूरे भारत को बधाई देती हूं। हम सब मिलकर एक उज्ज्वल भविष्य की ओर बढ़ रहे हैं।” अभिनेता विक्रांत मैसी ने ट्वीट किया, “मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं यह कह सकूंगा। इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का धन्यवाद। इस अनुच्छेद को खत्म करने पर खतरनाक परिणामों की चेतावनी देने वालों को शर्म आनी चाहिए।” अभिनेत्री दिया मिर्जा ने ट्वीट किया, “लद्दाख और जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए शांति, समृद्धि और विकास।” निर्माता एकता कपूर ने कहा, “यह बहुत ही महत्वपूर्ण फैसला है और समय की जरूरत है। आशा है कि कश्मीर के लोग सुरक्षित रहेंगे। ऐतिहासिक दिन।”

निर्देशक एवं निर्माता कुणाल कोहली ने कहा, “मैं इस तर्क से सहमत नहीं हूं कि अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए को समाप्त किया जाना असंवैधानिक है। एक समय में जब इसे लागू किया जाना उचित था तब किया गया, अब जब यह प्रासंगिक नहीं रह गया है है तब इसे हटाया जाना उचित है। यह कभी भी हमेशा के लिए नहीं था।” गौरतलब है कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को विपक्ष के हंगामे के बीच अनुच्छेद 370 काे समाप्त करने का प्रस्ताव राज्यसभा में पेश किया। इसके साथ ही उन्होंने जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा देने और लद्दाख को इससे अलग कर केंद्र शासित प्रदेश बनाने संबंधी विधेयक भी पेश किया। श्री शाह ने जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक, 2019 पेश किया और कहा कि लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया जाएगा और वहां विधानमंडल नहीं होगा।

Skip to toolbar